एक महिला और उसके बच्चे सहित कार को टो करने वाले कांस्टेबल को किया सस्पेंड

मुंबई के मलाड में रैफिक पुलिस द्वारा एक महिला और उसके बच्चे सहित कार को टो किए जाने के मामले को महाराष्ट्र सरकार ने गंभीरता से लिया. मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़वनीस ने बताया कि दोषी पुलिसकर्मी को सस्पेंड कर दिया गया है. ट्रैफिक पुलिस को संवेदनशील बनाने के निर्देश दिए गए हैं, ताकि भविष्य में ऐसी घटना न हो सके.

एक महिला और उसके बच्चे सहित कार को टो करने वाले कांस्टेबल को किया सस्पेंडयह मामला उस वक्त सामने आया जब एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया में वायरल हो गया. मलाड में शनिवार की शाम करीब साढ़े चार बजे की है. उसकी जांच के आदेश दे दिए गए हैं. यह जांच पश्चिमी उपनगर के डीसीपी यातायात की निगरानी में की जाएगी. महिला अपने पति और बच्चे के साथ किसी काम से मलाड गई थी.

पुलिस के मुताबिक, महिला के पति ने व्यस्त एसवी रोड़ पर कार खड़ी कर दी. कार की वजह से यातायात बाधित हो रहा था. इस पर ट्रैफिर पुलिस टोइंग वैन के साथ मौके पर पहुंची. जैसे ही वैन कार को टो कर के ले जाने वाली थी. महिला बच्चे के साथ कार में जा कर बैठ गई. पुलिस ने उससे बाहर आने का अनुरोध किया.

स्थिति संभालने के लिए मलाड पुलिस थाने से अधिकारियों को बुलाया गया, लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ. वायरल हुए वीडियो में महिला और बच्चा कार में बैठे और यातायात पुलिस उसे टो करके ले जाते हुए दिखाई दे रही है. प्रत्यक्षदर्शियों को पुलिस के इस कारनामे का विरोध करते और उन्हें रुकने का अनुरोध करते भी सुना सकता है.

वीडियों में यह भी दिया गया कि महिला पुलिस पर चिल्ला रही है और उन्हें बता रही है कि उसकी तबीयत ठीक नहीं है और बच्चे को फीड करा रही है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि दंपति को पुलिस थाने ले जाया गया, जहां पति ने जुर्माना भरा और मामला सुलझा गया. इस बीच इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

ज्वाइंट कमिश्नर ट्रैफिक अमितेश कुमार ने कहा कि डीसीपी ट्रैफिक को घटना की जांच करने और सोमवार तक इसकी रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा गया है. उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया यह पाया गया कि इस घटना में महिला और बच्चे की सुरक्षा को खतरे में डाला गया. इसलिए कांस्टेबल को बर्खास्त कर दिया गया है.

Facebook Comments

You may also like

सरेंडर करने पहुंचे अमानतुल्लाह ने पहने थे ऐसे कपड़े सोशल मीडिया पर हो गए ट्रोल

दिल्ली में मुख्य सचिव और सरकार के बीच