जाने 17 साल पहले वो कौन सी गलती और किसने की थी जिससे हुआ उरी आतंकी हमला

कश्मीर के उरी सेक्टर में एलओसी के पास स्थित आर्मी हेडक्वॉर्टर पर रविवार को बजे हुए आतंकी हमले में 20 जवान शहीद हो गए। शुरुआती जांच में इस हमले का मास्टरमाइंड आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर बताया जा रहा है। यह वहीं आतंकी है जिसे 1999 में भारत को कंधार हाईजैक के दौरान 178 यात्रियों के बदले छोड़ना पड़ा था।

जाने 17 साल पहले वो कौन सी गलती और किसने की थी जिससे हुआ उरी आतंकी हमला

ऐसे छूटा था आतंकी सरगना मसूद

भारत ने आतंकी अजहर को 1994 में आतंकी गतिविधियों के कारण जम्मू से गिरफ्तार किया गया था। अजहर की रिहाई के लिए आतंकवादियों ने भारतीय प्लेन को हाईजैक करने का प्लान बनाया और कामयाब भी हुए। 24 दिसंबर 1999 में 5 आतंकवादियों ने 178 यात्रियों के साथ इंडियन एयरलाइंस के आईसी-814 प्लेन को हाइजैक कर लिया।

भारत में उस वक्त एनडीए कि सरकार थी जिससे हरकत-उल-मुजाहिद्दीन के आतंकियों ने 178 यात्रियों की जान के बदले में तीन आतंकियों की रिहाई का सौदा किया। जिसके बाद सरकार ने यात्रियों की जान बचाने के लिए तीनों आतंकियों को छोड़ने का फैसला किया।

छोड़े गए आतंकियों में मौलाना मसूद अजहर, मुश्ताक अहमद जरगर और अहमद उमर सईद शेख थे। रिहाई के बाद मौलाना मसूद अजहर ने साल 2000 में अपना आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का गठन किया।

ऐसे हुआ था प्लेन हाई जैक –

24 दिसम्बर 1999 को उड़ाने भरने के बाद प्लेन के भारतीय क्षेत्र में दाखिल होते ही उसे हाईजैक कर लिया गया। पहले विमान को अमृतसर, लाहौर और दुबई के रास्ते अफगानिस्तान के कंधार एयरपोर्ट ले जाया गया। दुबई में विमान में सवार कुछ यात्रियों को छोड़ दिया गया और गंभीर रूप से घायल एक भारतीय की लाश को बाहर फेंक दिया गया।

प्लेन के फ्लाइट अटेंडेंट अनिल शर्मा ने बताया था कि एक नकाबपोश ने विमान को बम से उड़ा देने की धमकी दी और कैप्टन देवी शरण को ‘पश्चिम की ओर उड़ान भरने’ का आदेश दिया।

हाइजैकर्स प्लेन को लाहौर ले जाना चाहते थे पर लेकिन पाकिस्तान सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी इस कारण आतंकियों को प्लेन को काबुल ले जाना पड़ा।

मोदी सरकार पर निशाना –

उड़ी आतंकी हमले को लेकर कांग्रेस पार्टी ने सीधे पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। पार्टी ने कहा कि पाकिस्तान के प्रति सरकार की नीति में ढुलमुल रवैये के लिए केवल मोदी जिम्मेदार हैं। इसके साथ ही पार्टी ने इस मामले में भारी खुफिया और रणनीतिक विफलता के लिए रक्षा मंत्री मनोहर परिकर के खिलाफ कार्रवाई करने की चुनौती दी।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि उड़ी आतंकी हमला मोदी सरकार के राजनीतिक नेतृत्व की विफलता है। रिपोर्ट में स्पष्ट तौर सरकार के भीतर बड़ी खुफिया और रणनीतिक चूक की ओर इशारा किया गया है। उन्होंने पीएम से कहा कि इस पूरी विफलता के लिए वह जवाबदेही और जिम्मेदारी तय करने की हिम्मत दिखाएं।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com