मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कैबिनेट बैठक के बाद यहां संवाददाताओं से कहा कि गन्ना किसानों को पेराई सत्र 2016-17 और 2017-18 के बकाया गन्ना मूल्य का पूर्ण और त्वरित भुगतान सुनिश्चित कराने के दृष्टिगत प्रदेश की निजी चीनी मिलों को राष्ट्रीयकृत व अन्य बैंकों के माध्यम से 4000 करोड़ का सस्ता कर्ज उपलब्ध कराए जाने का प्रस्ताव मंजूर किया गया है. योगी ने कहा कि बकाया गन्ना मूल्य के भुगतान के लिए आसान कर्ज हेतु अनुपूरक अनुदान के माध्यम से 4000 करोड़ का बजटीय प्रावधान किया गया है.

गोरखपुर विश्‍वविद्यालय छात्रसंघ के निवर्तमान अध्यक्ष समेत 3 पर दर्ज हुआ मुकदमा

गन्ना किसानों के बैंक खातों में जमा होगी राशि

यह राशि चीनी मिलों को बैंकों के माध्यम से मिलेगी, जिसे वह आरटीजीएस/ एनईएफटी के माध्यम से सीधे गन्ना किसानों के बैंक खातों में जमा करेंगे. उन्होंने बताया कि गन्ना किसानों को पेराई सत्र 2017-18 की गन्ना खरीद के एवज में बकाया राशि का भुगतान सुनिश्चित कराने हेतु 4.50 रु. प्रति कुंतल की दर से चीनी मिलों को 500 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने के प्रस्ताव को स्वीकृत किया गया है. यह राशि गन्ना किसानों के खातों में जमा होगी.