उत्तराखण्ड नगर निगम की अंतिम बोर्ड बैठक पर सभी की निगाहें

देहरादून: नगर निकाय चुनाव की अधिसूचना से पहले देहरादून नगर निगम अपनी आखिरी बोर्ड बैठक कराने जा रहा है। पांच अप्रैल को प्रस्तावित इस बोर्ड बैठक में अब तक के कार्यों का लेखाजोखा तो रखा ही जाएगा, साथ ही हाउस टैक्स की नई दरों पर भी फैसला संभव है। इसके साथ ही वार्डों में विकास कार्यों के लिए और बजट भी जारी किया जा सकता है। ऐसे में इस बैठक पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। उत्तराखण्ड नगर निगम की अंतिम बोर्ड बैठक पर सभी की निगाहें

पहले यह माना जा रहा था कि चुनाव से पूर्व निगम की बोर्ड बैठक संभव नहीं होगी मगर जैसे ही नीति नियंताओं को यह पता चला कि आचार संहिता दस अप्रैल तक ही लगेगी, ऐसे में उन्होंने आनन-फानन बैठक बुलाने का फैसला कर दिया। बताया गया कि अभी आधे से ज्यादा पार्षदों को एजेंडा तक उपलब्ध नहीं कराया गया है।

चर्चा है कि बैठक में वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए हाउस टैक्स व कमर्शियल टैक्स की नईं दरें और नई प्रणाली पर फैसला संभव है। दरअसल, निगम जैसा इलाका वैसा ही टैक्स लागू करने पर विचार कर रहा। इसी तरह कमर्शियल टैक्स में जैसा व्यापार, वैसा टैक्स प्रणाली लागू की जा सकती है। वहीं, होर्डिंग टेंडर न होने और लाइटों को लेकर हुई गड़बड़ी पर पार्षद इस बैठक में हंगामा करने की रणनीति भी बना रहे हैं। 

लोग करते रहे इंतजार, नहीं लगा कैंप

मलिन बस्तियों में हाउस टैक्स के लिए लगाए जा रहे कैंप में सोमवार सुबह लोग इंतजार करते रहे लेकिन निगम टीम ने कैंप ही नहीं लगाया। वार्ड-58 के राम मंदिर में कैंप प्रस्तावित था लेकिन टीम नहीं पहुंची। क्षेत्रीय निवासी मुकेश शर्मा ने बताया कि वे 12 बजे तक इंतजार करते रहे और बाद में चले गए। इसी तरह अन्य लोग भी कईं घंटे इंतजार कर निकल गए। अफसरों की मानें तो भारत बंद की वजह से उपद्रव के मद्देनजर कैंप नहीं लगाया गया। 

You may also like

दो दिवसीय दौरे पर गोरखपुर पहुंचे सीएम योगी, 87 करोड़ लागत की योजनाओं का किया लोकार्पण

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को