इटली अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग कर लौटे सीएमएस छात्र दल का भव्य स्वागत

- in उत्तरप्रदेश, लखनऊ

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, कानपुर रोड कैम्पस का पाँच सदस्यीय छात्र दल इटली में आयोजित एक माह के अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग कर स्वदेश लौट आया। स्वदेश वापसी पर विद्यालय के शिक्षकों एवं अभिभावकों ने इस छात्र दल का भव्य स्वागत किया। सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी हरि ओम शर्मा ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में प्रतिभाग कर स्वदेश लौटे छात्रों में अन्वेषा राज, विशू बौद्ध, पियूष रॉय एवं कुशल गौतम शामिल हैं जबकि छात्र दल का नेतृत्व विद्यालय की शिक्षिका रत्ना पाण्डेय ने किया। इंग्लैण्ड की ख्यातिप्राप्त संस्था ‘चिल्ड्रेन्स इण्टरनेशनल समर विलेज’ के तत्वावधान में आयोजित इस अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में कई देशों के 11 वर्ष से 12 वर्ष की उम्र के बच्चों ने अपने शिक्षकों के नेतृत्व में प्रतिभाग किया एवं विश्व एकता व विश्व शान्ति को बढ़ावा देने वाली अनेकानेक गतिविधियों में सम्मिलित हुए। शर्मा ने बताया कि इटली से लौटे छात्रों ने बाल शिविर के अपने अनुभवांे के बारे में बड़े ही उत्साह से बताते हुए कहा कि इस शिविर में उन्हें स्नेह, सहयोग एवं प्रेम-एकता से भरे एक विश्व परिवार के साथ रहने का बड़ा ही सुखद अनुभव हुआ एवं हम बच्चों ने मिलकर पूरे विश्व में शांति, एकता, सौहार्द, सहयोग एवं सद्भावना की प्रार्थनायें की। बाल शिविर में विभिन्न देशों के बालकों ने एक साथ मिलकर पूरे विश्व को आपसी प्रेम एवं एकता के एक सूत्र में बांधने का संकल्प लिया।

श्री शर्मा ने बताया कि इटली के इस अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में भाग लेने वाले बच्चों को ठहरने, खाने-पीने, खेल-कूद, ऐतिहासिक स्थलों के भ्रमण, चिकित्सा आदि की सारी सुविधायें उपलब्ध करायी गयी तथापि देश-विदेश के बच्चों ने इटली के मेजबान परिवारों में दो दिन रहकर वहां के रहन-सहन, खान-पान, रीति-रिवाज आदि का नजदीक से ज्ञान प्राप्त किया। विभिन्न संस्कृति, भाषा, सभ्यता, रीति-रिवाज में पले-बढ़े बच्चों को इस प्रकार के एक माह लम्बे अन्तर्राष्ट्रीय बाल शिविर में एक साथ रखने का उद्देश्य छोटे बच्चों के कोमल हृदय में आपसी भाईचारा, विश्व शान्ति तथा विश्व बन्धुत्व की भावना का समावेश करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

खतरनाक गेम मोमो चैलेंज से बच्चों को बचाने के लिए सीबीएसई ने लिया चैलेंज

कानपुर। इंटरनेट और मोबाइल पर गेम्स खेलना बच्चों के