इजराइल से आयी सीएम योगी के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी, एक्शन में आये योगी ने लिया ऐतिहासिक फैसला

- in उत्तरप्रदेश

नई दिल्ली : इजराइल भारत का काफी पुराना और वफादार साथी रहा है. मुसीबत के वक़्त इजराइल ने सदा ही भारत का साथ दिया है. पीएम मोदी भी जून में इजराइल के दौरे पर जाने को हैं. इजराइल पीएम मोदी की “नमामि गंगे” परियोजना से इतना प्रभावित है कि उनके इजराइल दौरे से पहले ही “नमामि गंगे” परियोजना के तहत उत्तर प्रदेश को सहयोग देने की इच्छा जतायी है.

इजराइल से आयी सीएम योगी के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी

इजराइल तक हैं योगी के चर्चे

कल इजराइल के भारत स्थित राजदूत डेनियल कार्मन ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की. कार्मन ने सीएम योगी के काम करने के तरीकों की तारीफ़ करते हुए उन्हें बताया कि आपके चर्चे तो इजराइल में भी हो रहे हैं. इसरायली लोग आपके काम करने के अंदाज से बेहद प्रभावित हुए हैं.

साथ ही उन्होंने कहा कि गंगा नदी के पुनर्जीवन के उद्देश्य से पीएम मोदी द्वारा शुरू की गयी “नमामि गंगे” परियोजना के तहत इजराइल उत्तर प्रदेश सरकार को सहयोग प्रदान कर सकता है. इसके साथ-साथ इजराइल के निवेशक और औद्योगिक प्रतिष्ठान यूपी में निवेश के संबन्ध में भी सहयोग प्रदान कर सकते हैं.

यूपी के विकास के लिए आपसी सहभागिता

दोनों की मुलाकात के दौरान सीएम योगी ने कहा कि भारत और इजराइल कई तरह के क्षेत्रों में सहयोग कर रहे हैं. दोनों देशों के बीच बेहद मजबूत संबंध हैं. सीएम योगी ने कहा कि कृषि, बागवानी, सिंचाई, ऊर्जा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, स्मार्ट सिटी जैसे कई क्षेत्रों में इजराइल तकनीकी रूप से काफी आगे है, राज्य सरकार इसरायली तकनीकी का सदुपयोग प्रदेश के विकास के लिए करना चाहेगी.

सीएम योगी ने बताया कि लगातार घट रहे भू-जल स्तर के कारण वर्तमान में राज्य के कई इलाकों को “डार्क जोन” घोषित किया गया है. ऐसे क्षेत्रों में भू-जल स्तर को बढ़ाने के लिए इसरायली तकनीक काफी उपयोगी सिद्घ हो सकती है. बुन्देलखण्ड जैसे क्षेत्र में, जहाँ पानी की भारी कमी के कारण किसानों व् जनता का जीना मुहाल हो जाता है, वहां भी जल संरक्षण से जुड़े कार्यों में भी इसरायली तकनीक का फायदा लिया जा सकता है.

सीएम योगी ने तुरंत जारी किये निर्देश

इसी के साथ सीएम योगी ने अपने मुख्य सचिव को निर्देश दिया कि एक संयुक्त दल का गठन किया जाए जो ये तय करे कि कैसे कृषि, व्यापार, संस्कृति सहित विभिन्न नीति विषयक मामलों में राज्य सरकार इजराइल के साथ ज्यादा से ज्यादा सहयोग कर सकती है.

मुलाक़ात के दौरान कार्मन ने बताया कि भारत के साथ संबंधों को ज्यादा से ज्यादा मजबूत करना इजराइल की प्राथमिकता में शामिल है. उन्होंने कहा कि इजराइल भारत के कई राज्यों को कृषि तथा बागवानी से जुड़ी 40 परियोजनाआें में सहयोग प्रदान कर रहा है और इनमे से 15 परियोजनाएं तो पूरी भी हो चुकी हैं.

यूपी में भी इजराइल के सहयोग से 2 परियोजनाओं का विकास किया जा रहा है, जिनमें से एक तो बस्ती स्थित औद्योगिकी विकास केन्द्र और दूसरी कन्नौज का सब्जी विकास केन्द्र है. इन दोनो ही परियोजनाओं से 10 हज़ार से 15 हजार किसानों को लाभ पहुंचेगा.

यह भी पढ़ें: इस लड़की ने जो किया उसे देख इसके बॉयफ्रेंड के उड़े होश, वीडियो हुआ वायरल…

इसरायली तकनीकी मिलने से यूपी की कई गंभीर समस्याओं का सामाधान आसानी से हो जाएगा. जिससे ना केवल दोनों देशों के आपसी सम्बन्ध मजबूत होंगे बल्कि राज्य की प्रजा को भी सुख-सुविधाएं मिलेंगी और समस्याएँ कम होंगी. सीएम योगी के साथ काम करने की इजराइल की उत्सुकता देख देश के कई राज्यों के नेता भी हैरान हैं.

=>
loading...

You may also like

अभी-अभी: बीजेपी का बड़ा ऐलान, पहले शुरु करेंगे राम मंदिर का कार्य वरना नहीं करेंगे चुनाव प्रचार…

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले से BJP