आलोक वर्मा को हटाकर मोदी सरकार ने शुरू की गलत परंपरा: शिवसेना

मुंबई।  शिवसेना ने सीबीआई निदेशक के तौर पर बहाल किए गए आलोक वर्मा को पद से हटाए जाने के फैसले को मोदी सरकार का जल्दबाजी में लिया गया फैसला करार दिया।
उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि सरकार ने वर्मा को अपना बचाव करने का मौका न देकर गलत परंपरा शुरू की है। शिवसेना ने मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में लिखा कि राफेल सौदे को लेकर आरोपों के बीच जब प्रधानमत्री अपने बचाव के लिए हर मंच का प्रयोग कर सकते हैं तो यही मौका अपदस्थ सीबीआई प्रमुख को क्यों नही दिया गया?
पार्टी ने सवाल किया कि कुछ लोगों के मन में बसे इस डर के चलते वर्मा को पद से हटाया गया कि अगर वर्मा एक दिन भी एजेंसी की अध्यक्षता करते तो सीबीआई के पिटारे से कई राज बाहर आ जाते?
शिवसेना ने पूछा कि उन आरोपों का क्या कि उन्हें इसलिए हटाया गया क्योंकि राफेल सौदे में उन्होंने सरकार को आरोपी बनाया होता और एक अपराध दर्ज कर सकते थे? उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय का समर्थन हासिल करने वाले अस्थाना ने सीबीआई को सरकार का गुलाम बनाने की कोशिश की। पार्टीने राफेल सौदे पर साधते हुए कहा कि मोदी के वकीलों के पास कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सवालों का जवाब नहीं है।
ये भी पढ़ें:- पिछले साढ़े चार वर्षों में भारत में असहिष्णुता तथा गुस्सा बढ़ा: राहुल गांधी 
बता दें कि प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति द्वारा सीबीआई प्रमुख के पद से स्थानांतरित कर दमकल सेवा, सिविल डिफेंस एवं होम गार्ड का महानिदेशक बनाए जाने के एक दिन बाद ही वर्मा ने इस्तीफा दे दिया था। उच्चतम न्यायालय ने आठ जनवरी को सीबीआई निदेशक के तौर पर वर्मा को बहाल कर दिया था। भ्रष्टाचार के आरोप-प्रत्यारोप के चलते करीब तीन महीने पहले उनसे और सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना से सरकार ने उनकी शक्तियां वापस लेकर उन्हें लंबी छुट्टी पर भेज दिया था।
The post आलोक वर्मा को हटाकर मोदी सरकार ने शुरू की गलत परंपरा: शिवसेना appeared first on 24 Ghante Online | 24 घंटे ऑनलाइन समाचार.

Loading...
loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com