आय से अधिक संपत्ति मामला: शशिकला को SC से बड़ा झटका, कुछ देर में हो सकती हैं अरेस्ट

शशिकला और तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के 66 करोड़ की आय से अधिक संपत्ति मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आज अपना अहम फैसला सुनाया। अन्नाद्रमुक महासचिव वी.के. शशिकला आय से अधिक संपत्ति के मामले दोषी पाई गई हैं। सुप्रीम कोर्ट ने आज अपने फैसले में उन्हें दोषी पाया। बता दें कि इस मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट से बरी होने के बाद राज्य सरकार ने अपील की थी।

अभी अभी: 7 बड़े बम धमाको से दहला यह शहर, चारो तरफ़ बिछ गयी लाशेशशिकला अभी-अभी: आतंकियों और सेना के बीच शुरू हुई सबसे बड़ी जंग, चारों तरफ मचा हडकंप

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पलटते हुए 19 साल पुराने आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को दोषी ठहरा दिया है और उन्हें 4 साल की सजा सुनाई है। कोर्ट के फैसले के बाद अब शशिकला चुनाव नहीं लड़ सकती है। शशिकला की गिरफ्तारी के लिए पुलिस दस्ता गोल्डन बे रिजॉर्ट पहुंच चुका है। वकील ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लैंडमार्क जजमेंट करार दिया है। कोर्ट का जजमेंट कई पन्नों का है।

फैसले से साफ संदेश आ रहा है कि भ्रष्टाचार की इस देश में कोई जगह नहीं है। भ्रष्टाचार के खिलाफ यह बड़ी जीत है। कोर्ट के इस फैसले का असर राज्य की राजनीति और पार्टी के भविष्य पर पड़ना तय है। कयास लगाए जा रहे हैं कि शशिकला पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राज्य में पिछले कुछ दिनों से जारी राजनीतिक उठापटक काफी हद तक शांत हो जाएगी। कोर्ट के फैसले के बाद अब ओ. पन्नीरसेल्वम का सीएम बनना एक तरह से तय माना जा रहा है।

कर्नाटक हाईकोर्ट ने सुनाया था ये फैसला
कर्नाटक हाईकोर्ट ने पिछले साल इस मामले में जयललिता और शशिकला को बरी किया था. कोर्ट ने कहा था- जयललिता के पास इनकम से 8.12% संपत्ति थी. यह 10% से कम है जो मान्य है. आंध्र प्रदेश सरकार तो इनकम से 20% ज्यादा प्रॉपर्टी होने पर भी उसे जायज मानती है, क्योंकि कई बार हिसाब बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया जाता है. जो संपत्ति खरीदी गईं, उसके लिए आरोपियों ने नेशनलाइज्ड बैंकों से बड़ा कर्ज लिया था. लोअर कोर्ट ने इस पर विचार नहीं किया. यह भी साबित नहीं होता कि इमूवेबल प्रॉपर्टी काली कमाई से खरीदी गईं। निचली अदालत का फैसला कमजोर था।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button