आपके बच्चे करते हैं जिद तो कीजिए यह छोटा सा काम, बच्चा मनाने लग जायेगा आपकी हर बात

- in धर्म

अगर इंसान के चेहरे पर खुशी है तो गम का आना भी लाजमी है लेकिन भविष्य के बारे में कोई नहीं जानता. ऐसे में भगवान की बात की जाए तो उन्होंने प्रकृति के प्रत्येक जीव, प्राणी और पेड़-पौधों को कुछ विशेष गुण दिए हैं, जिन्हें देखकर आसानी से भविष्य के कुछ संकेत मिल जाते हैं. जी हाँ, अब तक आपने देखा और सुना होगा कि किसी मनुष्य, जीव-जंतु का व्यवहार तब विचित्र हो जाता है, जब प्रकृति में कुछ बदलाव होने वाला हो, कोई प्राकृतिक आपदा आने वाली हो लेकिन इस बारे में हमे कैसे पता चले यह आज हम आपको बताने जा रहे हैं. दरअसल हम बात कर रहे हैं तुलसी के पौधे की जो लगभग प्रत्येक हिंदू घर में मिल जाता है और इसे अत्यंत पवित्र और पूजनीय स्थान दिया जाता है. आपको बता दें कि तुलसी भविष्य में आने वाली विपदाओं के बारे में बताता है कैसे वह हम आपको बताते हैं.आपके बच्चे करते हैं जिद तो कीजिए यह छोटा सा काम, बच्चा मनाने लग जायेगा आपकी हर बात

 

तुलसी का मुरझाया हुआ पौधा संकट का संकेत – कहते हैं कि तुलसी का मुरझाया हुआ पौधा यह संकेत देता है कि निकट भविष्य में परिवार पर कोई संकट आने वाला है और अगर परिवार के किसी भी सदस्य पर कोई मुश्किल आने वाली है तो भी उसकी सबसे पहली नजर घर में मौजूद तुलसी के पौधे पर पड़ती है. कहते है कि शास्त्रों में भी यह बात लिखी है कि अगर घर पर कोई संकट आने वाला है तो सबसे पहले उस घर से लक्ष्मी यानी तुलसी चली जाती है और वहां दरिद्रता का वास होने लगता है.

आज हम आपको यह भी बताएंगे कि आप कैसे तुलसी से घऱ सुधार सकते हैं- वैसे तो तुलसी के अनेक प्रकार बताए गए हैं जिनमे श्रीकृष्ण तुलसी, लक्ष्मी तुलसी, राम तुलसी, भू तुलसी, नील तुलसी, श्वेत तुलसी, रक्त तुलसी, वन तुलसी, ज्ञान तुलसी मुख्य रूप से शामिल हुए हैं. इन सभी के गुण अलग और विशिष्ट हैं.

आपको बता दें कि तुलसी मानव शरीर में कान, वायु, कफ, ज्वर, खांसी और दिल की बीमारियों के लिए खासी उपयोगी मानी जाती है और अगर तुलसी के गमले को रसोई के पास रखा जाए तो किसी भी प्रकार के गृह कलह से मुक्ति पाई जा सकती है. कहते हैं कि अगर बच्चे जिद करते हों तो पूर्व दिशा में लगी खिड़की के सामने तुलसी का पौधा रखना चाहिए वह जिद करना छोड़ देंगे.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

…यहां पत्नी पीड़ित पुरुषों ने किया शूर्पणखा का पुतला दहन

औरंगाबाद: दशहरा पर रावण का पुतला दहन करने