अब हरियाणा के मंत्रियों होंगे ताकतवर, कर सकेंगे अफसरों के तबादले

- in राज्य, हरियाणा

चंडीगढ़। अफसरों द्वारा सुनवाई नहीं किए जाने से आहत हरियाणा सरकार के मंत्री जल्द ही पावरफुल नजर आएंगे। उनके घर, दफ्तर और हलकों में लोगों की भीड़ फिर दिखाई देने लगेगी। प्रदेश सरकार मंत्रियों को जल्द ही तबादले करने का अधिकार देने वाली है। मंत्री प्रथम श्रेणी के अफसरों यानी आइएएस और आइपीएस को छोड़कर बाकी अधिकारियों के तबादले कर सकेंगे। इनमें तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी शामिल हैं।

हरियाणा में मंत्रियों होंगे ताकतवर, मिलेगी अफसरों के तबादलों की पावरप्रथम श्रेणी के अधिकारियों के तबादले करने की पावर मुख्यमंत्री के पास होती है। प्रदेश सरकार ने हालांकि कई विभागों में कर्मचारियों के तबादलों के लिए आनलाइन स्थानांतरण नीतियां तैयार की हैं। लेकिन इसके बावजूद सैकड़ों ऐसे मामले होते हैं, जिनमें मंत्री को राजनीतिक कारणों से तबादले करने पड़ जाते हैं। अभी तबादले की शक्ति नहीं होने के कारण उनके हाथ बंधे हुए हैं।

बताया जाता है कि मुख्यमंत्री मनोहरलाल मंत्रियों को अगले माह एक माह के लिए तबादले करने की पावर दे सकते हैं। राज्य सरकार हर साल एक माह के लिए मंत्रियों को यह पावर देती है। लेकिन, अभी मंत्रियों में जिस तरह नाराजगी का माहौल है, उसके मद्देनजर मुख्‍यमंत्री की मंत्रियों को तबादलों की पावर देकर उन्हें खुश करने की रणनीति हो सकती है।

गेहूं और सरसों की खरीद को लेकर सरकार गंभीर

हरियाणा सरकार ने राज्य में गेहूं और सरसों की खरीद की तैयारियां तेज कर दी हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुधवार देर रात तक अपने निवास पर मंत्रियों के साथ सरसों की खरीद प्रक्रिया की जानकारी ली तथा फीडबैक के आधार पर खामियों को दुरुस्त करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

राज्य सरकार ने हालांकि सरसों की खरीद पहले ही शुरू कर रखी है, लेकिन सही ढंग से खरीद नहीं होने तथा निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर दाम नहीं मिलने की शिकायतें लगातार आ रही है। कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी तथा विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला ने इस मुद्दे को विधानसभा में भी उठाया था। इसके अलावा गेहूं की सरकारी खरीद पर भी चर्चा की गई।

मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल जल्द ही कैबिनेट की बैठक बुला सकते हैं। 31 मार्च को वित्तीय वर्ष खत्म हो रहा है और 1अप्रैल से नया वित्तीय वर्ष शुरू होगा। इसलिए विभिन्न फैसले लेने तथा वित्तीय स्वीकृतियों के लिए कैबिनेट की बैठक 27 मार्च को संभव है। मंत्री समूह की बैठक से लौटे हरियाणा भाजपा के अध्यक्ष सुभाष बराला ने इसके संकेत दिए हैं।

मंत्री समूह की बैठक में भाजपा ने 14 अप्रैल को राज्य भर में डा. अंबेडकर की जयंती मनाने का निर्णय किया है। दूसरी तरफ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने इस बात से स्पष्ट इन्‍कार किया कि हरियाणा कैबिनेट के मंत्रियों में किसी तरह की नाराजगी है। उन्होंने कहा कि यह सिर्फ मनघंडत और एजेंडायुक्त खबरें हैं और इनमें कोई दम नहीं है।

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के