अब लाभ का धंधा नहीं रहा प्राकृतिक गैस को उत्पादित करना

- in कारोबार

नई दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र की दिग्गज कंपनी ओएनजीसी का मानना है कि अब प्राकृतिक गैस का उत्पादन करना फायदे का व्यवसाय नहीं रहा. इसका कारण यह है कि सरकार ने विदेशों की तर्ज पर गैस मूल्य तय करने का जो फार्मूला तय किया है, वह गैस की उत्पादन लागत से काफी कम है.इसलिए ओएनजीसी ने सरकार से गैस का मूल्य तय करने वाले फार्मूले को बदलने की अपील की है.

अब लाभ का धंधा नहीं रहा प्राकृतिक गैस को उत्पादित करना

इस बारे में ONGC के चेयरमैन और एमडी दिनेश के सर्राफ का कहना है कि पिछले वित्त वर्ष में प्राकृतिक गैस व्यवसाय से कंपनी को आय में 5,010 करोड़ रुपये और लाभ में 3,000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है.  नए फार्मूले के कारण लगातार दो साल से गैस की कीमतें गिर रही हैं. नए फार्मूले के लागू होने के बाद से अब तक प्राकृतिक गैस के दाम आधे रहकर 2.48 डॉलर (160.06 रुपये) प्रति दस लाख ब्रिटिश थर्मल यूनिट रह गये हैं.

ये भी पढ़े: सरकार की समझाईश, GST का लाभ ग्राहकों को दें टेलीकॉम कंपनियां

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने अक्टूबर 2014 में घरेलू गैस के लिए नया फार्मूला तय किया था. दरअसल यह फार्मूला अमेरिका, कनाडा और रुस जैसे गैस की अधिकता वाले देशों से होने वाले कुल आयात मूल्य के हिसाब से तय किया जाता है. जो हमारे देश में सफल नहीं हो रहा है.

You may also like

माल्या जैसे कर्ज ना चुकाने वालों पर नकेल कसेगी मोदी सरकार, उठाया बड़ा कदम

नई दिल्ली । कर्ज ना चुकाने वाले (डिफॉल्टर) प्रमोटरों