अगर खुला होता म्यूजिक क्लास तो बच जाती प्रद्युम्न की जान

प्रद्युम्न की हत्या में सीबीआई द्वारा आरोपी बनाए गए उसी के स्कूल के 11वीं के छात्र ने वारदात से कुछ मिनटों पहले अपना प्लान बदल दिया था। ये बात सीबीआई की जांच में सामने आई है।
 

सीबीआई जांच से जुड़े कई दस्तावेजों से ये बात निकलकर सामने आई है कि आरोपी जो कदम उठाने जा रहा था उसके बारे में उसने कई बार सोचा। आरोपी ने सीबीआई पूछताछ के दौरान बताया कि वह चिंता में था कि उसके इस कदम का क्या अंजाम होगा और उसे अगर उसके छोटे भाई के साथ कोई और ऐसा करेगा तो उसे खुद कैसा लगेगा ये बातें भी उसने कई बार सोची।
 

बता दें कि आरोपी ने परीक्षा को टालने के लिए किसी की हत्या का जो प्लान बनाया था उसके लिए उसने ‌इंटरनेट पर काफी सर्च किया। उसने इंटरनेट पर कई तरह के जहर के बारे में पढ़ा और उन्हें किसी की जान के लिए कैसे इस्तेमाल करना है ये भी जानकारी ली थी। लेकिन फिर उसने जहर इस्तेमाल करने का प्लान ड्रॉप कर दिया। क्योंकि…
 

सीबीआई सूत्र के अनुसार आरोपी ने जहर से मारने का प्लान ड्रॉप कर 7 सितंबर को सोहना मार्केट से चाकू खरीद लिया। लेकिन 7 तारीख की शाम तक वह यह नहीं कर पाया था कि वह हत्या जहर से करेगा या चाकू से क्योंकि चाकू से हत्या करना बहुत क्रूर होगा। उसने फिर से जहर इस्तेमाल करने का सोचा वो भी स्कूल के पानी की टंकी में मिलाकर। लेकिन फिर भी वह चाकू लेकर स्कूल गया।
 

जब आरोपी छात्र 8 सितंबर को स्कूल पहुंचा तो उसने प्रद्युम्न को स्कूल के बारामदे में देखा। चूंकि वो पियानो क्लास की वजह से प्रद्युम्न को जानता था इसलिए मदद मांगने के बहाने वो प्रद्युम्न को अपने साथ वॉशरूम ले गया। जब उसने प्रद्युम्न को बुलाया तो वह बोला, “हां भईया” और उसके साथ चला गया। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक उस वक्त आरोपी काफी बेचैन हो गया और वह म्यूजिक क्लास की ओर भागा था।
 

लेकिन जब वह म्यूजिक क्लास की ओर गया तो वह बंद था जिसके बाद वह वॉशरूम लौट आया। प्रद्युम्न अब भी आरोपी का इंतजार वॉशरूम में ही कर रहा था। तब उसने अपने प्लान के साथ जाने का निश्चय किया और प्रद्युम्न की गला रेतकर हत्या कर दी।
 

जांचकर्ताओं का मानना है कि जब हत्या हुई तो कंडक्टर अशोक वहां मौजूद था लेकिन शायद वो शौचालय के स्थान पर था और आरोपी छात्र प्रद्युम्न के साथ एक कोने में था इसलिए वह उसे देख नहीं पाया।
 

सीबीआई सूत्रों के अनुसार सीसीटीवी फुटेज में दिखता है कि कंडक्टर अशोक आरोपी छात्र से पहले ही टॉयलेट से निकल गया था। सीबीआई कंडक्टर से इस बारे में पूछताछ करेगी।
 

वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी छात्र बाहर भाग जहां उसने स्कूल के माली हरपाल को देखा और उसे बताया कि प्रद्युम्न बाथरूम में खून से लथपथ पड़ा है। इसके बाद आरोपी ने ये बात म्यूजिक और स्पोर्ट्स टीचर को बतायी। आरोपी छात्र ने सीबीआई को ये भी बताया है कि मुझे बुरा लग रहा था लेकिन मैंने प्रद्युम्न के लिए प्रार्थना की। बाद में मुझे पता चला कि मर गया।
 

Facebook Comments

You may also like

कुमार विश्वास ने लोकतंत्र पर किया ट्वीट, और नेताओं को बताया हाफिज सईद..

आम आदमी पार्टी के नेता और कवि डॉ.