Home > जीवनशैली > हेल्थ > अगर आप भी ज़रा-ज़रा सी बात पर खाते हैं एंटीबायोटिक, तो हो जाएं सावधान

अगर आप भी ज़रा-ज़रा सी बात पर खाते हैं एंटीबायोटिक, तो हो जाएं सावधान

पिछले कुछ सालों में एंटीबायोटिक दवाओं के चलन में खासी बढ़ोतरी हुई है. यही वजह है कि भारत दुनिया भर में एंटीबायोटिक दवाओं के सबसे बड़े उपभोक्‍ताओं में से एक है. यही नहीं ज्‍यादातर भारतीय मामूली सर्दी-खांसी के लिए भी एंटीबायोटिक दवाओं का इस्‍तेमाल करने लगे हैं.अगर आप भी ज़रा-ज़रा सी बात पर खाते हैं एंटीबायोटिक, तो हो जाएं सावधानएंटीबायोटिक दवाओं के हानिकारक प्रभावों पर प्रकाश डालते हुए एटना इंटरनेशनल ने अपने White Paper ‘एंटीबायोटिक प्रतिरोध : एक बहुमूल्य चिकित्सा संसाधन की ओर से बेहतर प्रबंध’ में इस पर तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता पर जोर दिया. एंटीमिक्रोबियल प्रतिरोध (एएमआर) से दुनिया भर में हर साल करीब सात लाख लोगों की मौत हो रही है. 

पत्र में कहा गया कि बीमारी का बोझ, खराब सार्वजनिक स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे, बढ़ती आय और सस्‍ती एंटीबायोटिक दवाओं की अनियमित बिक्री जैसे कारकों ने भारत में एंटीबायोटिक प्रतिरोध के संकट को बढ़ा दिया है. एंटीमिक्रोबियल प्रतिरोध (एएमआर) से दुनिया भर में करीब सात लाख लोगों की मौत हो रही है और 2050 तक मृत्यु का आंकड़ा एक करोड़ तक पहुंच सकता है. इन मौतों में बढ़ोतरी का प्रमुख कारण एंटीबायोटिक दवाओं का अनियंत्रित इस्तेमाल है.

दुनिया भर में एंटीबायोटिक प्रतिरोध के प्रति बढ़ती चिंता पर वी हेल्थ बाई एटना के चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ. प्रशांत कुमार दास ने कहा, ‘ज्‍यादातर भारतीय सोचते हैं कि एंटीबायोटिक दवाएं सामान्य सर्दी और गैस्ट्रोएन्टेरिटिस जैसी बीमारियों का इलाज कर सकती हैं, जो गलत धारणा है. इन संक्रमणों में से अधिकांश वायरस के कारण होते हैं और एंटीबायोटिक दवाइयों की उनके इलाज में कोई भूमिका नहीं होती है.’

एंटीबायोटिक दवाओं से होने वाली मौत के आंकड़ों में यूरोप सहित संयुक्त राज्य अमेरिका भी है. रिपोर्ट के आंकड़ों के मुताबिक इन दवाओं की बिक्री दुनिया के 76 गरीब देशों में तेजी से हो रही है.

Loading...

Check Also

इस मुख्य कारण से फैलता है टीबी रोग, आप भी हो जाये सावधान...

इस मुख्य कारण से फैलता है टीबी रोग, आप भी हो जाये सावधान…

टीबी या ट्यूबरक्यूलोसिस फेफड़ों से जुड़ा एक खतरनाक रोग है। भारत में टीबी के मरीजों …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com