अगर आपके घर में भी है वास्तुदोष तो आजमाएं ये 10 आसान उपाय…

- in धर्म

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर से परेशानियां खत्म नहीं हो रहीं है, पैसा टिक नहीं रहा है तो इसके लिए आपके घर का वास्तुदोष कुछ हद तक जिम्मेदार होता है। जैसे हम मनुष्य घर में मुख्य दरवाजे से प्रवेश करते हैं वैसे ही घर में नकारात्मक ऊर्जा और सकारात्मक ऊर्जा का भी प्रवेश भी मुख्य द्वार से होता है। आइए समझते हैं कि किन कारणों से घर में वास्तु दोष पैदा होते हैं और ऐसे कौन से उपाय हैं जिनसे यह हमेशा के लिए दूर हो सकते हैं…अगर आपके घर में भी है वास्तुदोष तो आजमाएं ये 10 आसान उपाय...

रामचरितमानस का पाठ कराएं
वास्तुशास्त्र के अनुसार, घर का वास्तु दोष को दोष को दूर करने के लिए घर में 9 दिन तक रामचरितमानस का पाठ कराएं। इससे घर का वास्तु दोष दूर होता है। साथ ही आप 9 दिन तक अखंड कीर्तन भी करा सकते हैं। इस कीर्तन से वास्तुजनित दोषों का निवारण होता है।

हाटकेश्वर महादेव मंदिर के करें दर्शन
घर का वास्तु सही करने के लिए हाटकेश्वर महादेव मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। इस क्षेत्र में वास्तुपद नामक तीर्थ के दर्शन मात्र से ही वास्तुजनित दोषों का निवारण होता है। यह एक ऐसा शिव मंदिर है, जहां पुरुषों को पैंट-शर्ट और कुर्ता-पायजामा पहनकर रुद्राभिषेक करना पूरी तरह वर्जित है।

इस तरह लगाएं स्वस्तिक
भारतीय संस्कृति में स्वस्तिक का विशेष महत्व प्राप्त है। वास्तु विज्ञान के अनुसार, घर के मुख्य द्वार पर सिंदूर से नौ अंगुल लंबा, नौ अंगुल चौड़ा स्वस्तिक का चिन्ह बनाएं। ऐसा करने से चारों ओर आ रही नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है और वास्तुदोष भी हटता है।

रसोई में लगाएं बल्ब
वास्तु विज्ञान में रसोई घर को घर की सुख समृद्धि के लिए बहुत खास माना गया है। अगर रसोई घर गलत स्थान पर है तो अग्निकोण में बल्ब लगा दें और हर रोज ध्यान से सुबह-शाम उस बल्ब को जरूर लगाएं। इससे आपके रसोई का वास्तु दोष दूर हो जाएगा।

ऐसी हो घोड़े की नाल
वास्तु के अनुसार घर में घोड़े की नाल टांगना शुभ होता है। काले घोड़े की नाल घर के मुख्य द्वार पर लगाने से सुरक्षा एवं सकारात्मक ऊर्जा मिलती है। घोड़े की नाल का आकार यू शेप होता है। ध्यान रहे, घोड़े की नाल अपने आप गिरी होनी चाहिए।

इस तरह रखें कलश
वास्तु विज्ञान के अनुसार, घर में अगर में वास्तु दोष है तो घर के उत्‍तर-पूर्व कोने में कलश रखना सबसे उपयुक्‍त माना जाता है। ध्‍यान रहे की कलश कहीं से भी खंडित नहीं होना चाहिए।

यहां लगाएं पर्वत का चित्र
वास्तु शास्त्र के अनुसार, अपने बैठने के स्थान के पीछे पर्वत का चित्र लगाना चाहिए। इससे आपके पीछे के भाग के सहारे को बल मिलेगा। जो कमजोर इच्छा शक्ति एवं आत्मविश्वास की कमी वाले व्यक्ति हैं, उनको अपने लिए इसका उपयोग करना चाहिए।

इस दिशा में मुंह करके सोएं
वास्तु विज्ञान के अनुसार, अगर आप पश्चिम की ओर सिर करके सोते हैं तो आपको बुरे सपने आ सकते हैं। पेट से संबंधित बिमारी हो सकती है। वहीं अगर आपको नींद नहीं है, जिससे आपके स्वभाव में चिड़चिड़ा रहता है तो आप दक्षिण दिशा में सोना चाहिए। इससे आपके स्वभाव में बदलाव होगा और अनिद्रा की स्थिती में भी सुधार होगा।

इस दिशा में ना रखें कचरा
घर के उत्तर-पूर्व में कभी भी कचरा इकट्ठा ना होने दें और ना ही इधर भारी मशीने रखें। इससे आपके घर में वास्तु दोष लगता है। साथ आप अपनी वंश की उन्नति के लिए मुख्य द्वार पर अशोक का वृक्ष दोनों तरफ लगाएं। इससे आपके घर का वास्तु दोष दूर होगा साथ ही नकारात्मक ऊर्जा कभी घर में प्रवेश नहीं करेगी।

इस दिशा में ना बनाएं टॉयलेट
अगर टॉयलेट घर के पूर्व कोने में है तो आप टॉयलेट सीट को इस प्रकार लगवाएं कि उस पर उत्तर या फिर दक्षिण की ओर मुंह करके बैठें। इससे घर की नकारात्मक ऊर्जा की जगह सकारात्मक ऊर्जा ले लेगी और आपके सारे काम बनने लगेंगे। आपको हर काम में सफलता जरूर मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आज है साल का सबसे बड़ा सोमवार जो आज से खोल देगा इन 4 राशियों के बंद किस्मत के ताले

दोस्तों आपने एक कहावत तो सुनी ही होगी