अखिलेश से मुलाकात के बाद शरद यादव ने कहा-खतरे में देश का संविधान, विपक्षी एका की जरूरत

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ अभियान बनाने के क्रम में जनता दल यूनाईटेड के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव ने आज समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से भेंट की। इस भेंट के दौरान दोनों नेताओं ने भाजपा के खिलाफ हाथ मिलाया। अखिलेश यादव से भेंट करने के बाद शरद यादव ने कहा कि देश का संविधान खतरे में है।अखिलेश से मुलाकात के बाद शरद यादव ने कहा-खतरे में देश का संविधान, विपक्षी एका की जरूरत

भाजपा के खिलाफ अब पार्टियों को एकजुट होने की जरूरत है। इसके बाद महागठबंधन बनेगा। उन्होंने कहा कि देश विकट परिस्थितियों से गुजर रहा है। नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के चलते देश के छोटे उद्योग तबाह हो गए। इतना ही नहीं शरद यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री जनता की समस्याओं को हल करने के बजाय मंदिर-मंदिर घूमते रहते हैं। उन्होंने कहा कि गोरखपुर के साथ फूलपुर की लोकसभा सीट पर जीत के लिए समाजवादी पार्टी और बसपा के नेताओं का अभिनंदन करता हूं।

उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्ष में सबसे ज्यादा असर गोरखपुर और फूलपुर के चुनाव का हुआ है। इस समय हर पार्टी से अपील करता हूं की चुनौती बड़ी है संविधान बचाने के लिए सब को एक होना होगा। उत्तर प्रदेश में लंबे समय बाद बहुजन समाज पार्टी के सहयोग से लोकसभा उप चुनाव में दो सीट जीतने वाली समाजवादी पार्टी अब महागठबंधन बनाने की ओर बढ़ रही है।

शरद पवार ने आज लखनऊ में पिछड़ा, अल्पसंख्यक, दलित आदिवासी मंच के कार्यक्रम में शिरकत की।बिहार के मुख्यमंत्री तथा जनता दल यूनाईटेड के अध्यक्ष नितीश कुमार से संबंध खराब होने के बाद से शरद यादव भी कोई मजबूत मंच तलाश रहे हैं।

महागठबंधन बनाने को लालू से जल्द मिलेंगे अखिलेश के दूत

गोरखपुर और फूलपुर उप-चुनाव में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के साथ हाथ मिलाने के बाद अब समाजवादी पार्टी (सपा) ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) से हाथ मिलाने का निर्णय लिया है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी के उपाध्यक्ष किरणमय नंदा को लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव से रांची में मिलने के लिए कहा है। माना जा रहा है कि इस भेंट से 2019 में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर महागठबंधन बनाए जाने की तैयारी की जा रही है। लालू के साथ नंदा भी भेंट 24 मार्च रिम्स अस्पताल या फिर बिरसा मुंडा जेल में हो सकती है। तीन तीन दिन से सीने में दर्द होने की वजह से लालू रिम्स में भर्ती हैं। सपा नेता नंदा ने कहा कि हमने जेल प्रशासन से पहले ही आज्ञा ले ली है। लालूजी से बैठक के बाद मैं तेजस्वी से मिलूंगा। यह एक शिष्टाचार मुलाकात होगी।

लोकसभा चुनाव में एक वर्ष का ही समय बचा है और देश भर की पार्टियां धीरे-धीरे भाजपा के खिलाफ एकजुट हो रही हैं। माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में बसपा के साथ गठजोड़ करने के बाद अब अखिलेश यादव आरजेडी को भी जोडऩा चाह रहे हैं। नंदा तथा लालू के बीच होने वाली मुलाकात को मोदी सरकार के खिलाफ क्षेत्रीय पार्टियों के गठबंधन की शरूआत के रूप में देखा जा रहा है। नंदा ने कहा कि आरजेडी हमेशा से समाजवादी पार्टी के साथ खड़ी रही है। उन्होंने कहा कि लालू बिना किसी राजनैतिक लाभ के एसपी के साथ हमेशा से खड़े रहे हैं।  

You may also like

बसपा ने भी तोड़ा नाता, राहुल की एक और सियासी चूक, बीजेपी के लिए संजीवनी

बसपा अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की बजाय अजीत जोगी के